Vidur kiske putra the | विदुर के पिता कौन थे

vidur kiske putra the विचित्रवीर्य के स्वरगवास हो जाने के पश्चात उनकी पत्नी अम्बालिका और अम्बा के कोई संतान नहीं थी राजगद्दी पर बैठने के लिए इस लिए राजमाता ने भीष्म को बुलाया और आदेश दिया की तुम अपनी परतिज्ञा को तोड़ दो तो भीष्म ने इंकार कर दिया की भीष्म की प्रतिज्ञा अटूट है

vidur kiske putra the
vidur kiske putra the

इस लिए माता ने अपने कौमार्य समय की संतान महाराज वेदव्यास थे और अंत में नियोग वस्था से उन महारानियो का संबंध ऋषि वेदव्यास से कराया लेकिन दूसरी बार अपनी जगह दासी को भेज दिया उसके द्वारा ऋषि वेदव्यास से सम्बन्ध बनाये गए तो उनको विदुर जैसे महान व्यक्ति की प्राप्ति हुई

vidur kiske putra the कहते है विदुर को धर्मराज का अवतार माना जाता है विदुर श्री कृष्ण के भगत थे इस लिए विदुर के घर कृष्ण गए थे विदुर एक दासी के गर्भ से उतपन हुए इस लिए विदुर को दासी पुत्र भी कहते है

Leave a Reply

%d bloggers like this: