सालासर धाम की सच्ची कहानी कैसे बना सालासर मंदिर | salasar

सालासर धाम की सच्ची कहानी सालासर बालाजी के बारे में वैसे तो कुछ भी कहने की जरुरत ही नहीं है लेकिन अगर आप राजस्थान से नहीं हो तो शायद आपको बताने की जरुरत हो सकती है की सालासर बालाजी किसे कहते है अगर आप राजस्थान से है

सालासर हनुमान जी

तो आपको बालाजी बाबा के बारे में पता ही होगा आज हम आपको बताएंगे की बालाजी का मंदिर सालासर में कैसे बना और किसने बनाया है तो भक्त जनो शुरू करते है सालासर बालाजी मंदिर की कथा

बालाजी सालासर

आज तक जितने भी संत हुए है उनमे एक बात हमेसा कॉमन रही है की सभी बचपन से ही पूजा पाठ भगवान की सेवा में मन लगता था कुछ ये ही हाल था राजस्थान के सीकर जिले के रुल्याणी ग्राम के निवासी लच्छीराम के छोटे पुत्र मोहनदास का वे बचपन से ही ऐसे थे

सालासर दरबार

मोहनदास की बहन का विवाह सालासर गांव में हुआ उनके पुत्र उदय का जन्म होने के बाद थोड़े समय में ही उनके पति का धेयांत हो गया दिन बीतते गए भांजा बड़ा हुआ उसकी भी शादी कर दी एक दिन मोहनदास और भांजा दोनों खेत का काम कर रहे थे तभी मोहनदास के हाथ से हाल गिरा

सालासर धाम की सच्ची कहानी
सालासर धाम की सच्ची कहानी

Leave a Reply

%d bloggers like this: