वृंदावन की रासलीला की सही कहानी | Ras in Hindi

ras in hindi: क्या आपने एक बात सुनी है की भगवन अपने भक्तो को कहते है की जिस प्रकार से भक्त मुझे भजता है में भी उसे उसी प्रकार मिलता हु

बस आप इस बात को समझ जाओगे तो समझो की आप भगवान श्री कृष्ण की रासलीला को समझ गए

आप रासलीला का अर्थ इस बात से भी लगा सकते है की जैसे मानो जहा प्रधान मंत्री और राष्ट्रपति या कोई प्रसिद्ध और बड़ा आदमी आने वाला होता है वहा जिस – जिस व्यक्ति को अपना काम निकलना होता है

वो खुद ही आ जाते है और वहा और भी छोटे मोठे नेता और अमेले भी आ जाते है और कुछ को उन खुद यानि की प्रधान मंत्री द्वारा बुलाया होता है की तुम वहा आ जाना में तुम्हारा काम वहा कर

as in hindi
as in hindi

krishna raas leela story in hindi

दूंगा हलाकि भगवान के सन्दर्भ में ये उदहारण देना मूर्खता जैसे लगता है परन्तु सामान्य लोगो को ये बात ज्यादा समझ में आएगी rasaleela

तो बस जब भगवान को जहा अवतार लेना होता है तो वहा कोई भी मनुष्य सामान्य नहीं हो सकता है मनुष्य तो दूर की बात है वहा के पेड़ पौध पहाड़ भी सामान्य नहीं होते है

अगर आपने यहाँ तक ये पोस्ट पढ़ा है तो मुझे पता है की आपके अंदर जिज्ञासा की कमी नहीं है और आप पूरा जानके ही जायेंगे आज तो में भी आपको अपनी बुद्धि अनुसार रासलीला का अर्थ समझता हु

पहली बात तो ये अपने दिमाग से निकाल दो की श्री कृष्ण ने गोपियों को रासलीला के बहाने बुलाके गुलछर्रे उड़ाये थे रासलीला इस बात से और कामवासना से काफी परे है

रासलीला

जब ऋषि मुनियो को पता चला की भगवान अवतार ग्रहण करने वाले है तो सभी ने तुरंत अपने शरीर का त्याग कर गोकुल में जन्म ले लिया कोई गोपीबना तो कोई नन्द बाबा

की गाय कोई पेड़ बना तो कोई पर्वत कोई नन्द बाबा के गांव में कालिंदी और कदम के पेड़ पर कोयल के रूप में जन्म लिया rasaleela

क्योंकि उन्हें उनके वर्षो के प्रियतम श्री कृष्णा मिलने वाले थे उन्हें पता था की भगवान यहाँ गाय भी चरायेंगे पेड़ के निचे छाया में भी बैठेंगे तो कोयल के रूप में ऋषि

वृंदावन की रासलीला
वृंदावन की रासलीला

कृष्ण की रासलीला

मुनि उन्हें मधुर गूंज करेंगे कोई फल बना की भगवान उसे खाएंगे इस बात का रहश्य का पता लगाना बहुत कठिन था की कोन क्या बना है

और कोन अपने कौनसे कर्मो का फल से कोनसे रूप में आनंद ले रहा है जब श्री कृष्ण ने सभी गोपियों को एक साथ उनके प्रेम का फल देने के लिए सोचा तो कृष्ण ने पहले ही बोल दिया

की कल रासलीला होगी जिसमे कृष्ण भगवान सभी गोपियों के वेश में उन सभी ऋषि मुनियो के प्रेम के वसीभूत होक कृष्ण में गोपी गोपी में कृष्ण हो गए कहते है rasaleela

कृष्ण के रासलीला में दश करोड़ गोपिया थी और सभी के साथ एक – एक कृष्ण थे जिसने जैसी इच्छा की भगवान ने गोपियों के साथ वैसा ही नृत्य किया किसी के गले में बाहे डाले

वृंदावन की रासलीला की सही कहानी

किसी के बालगुंथते किसी का सृंगार करते जिसने जिसने जैसी इच्छा की वैसा ही भगवान ने रूप बनाया

जब महादेव से भी नहीं रहा गया तो की भगवान सभी भक्तो को एक साथ सुख और प्रेम दे रहे है तो महादेव भी गोपी के भेष में कृष्ण की रासलीला में जाके जमके नाचे थे कहते है

रसलीसा को अपने मुख से बया करना असंभव है इतना अद्बुध दर्शय था की साधरण वयक्ति ना समझ सकता है ना अपनी बुद्धि से जान सकता है रासलीला को नरसी मेहता ने देखा था rasaleela

भगवान भोलेनाथ जब प्रकट हुए तो नरसी की इच्छा पूर्ति हेतु भगवान शंकर ने नरशी को गोलोक में लेजाके नरसी को दूर से ही रासलीला के दर्शन किये थे

उस समय नरशी जी के हाथ में मसाल जला के पकड़ राखी थी रासलीला के अदबुद्ध दर्शय को देख कर उनके नरसी के हाथ में रखी मिसाल से नरसी का हाथ जल गया

कृष्ण भगवान की रासलीला

ये देख कर भगवान श्री कृष्ण ने वहा प्रकट होकर नरसी का हाथ पकड़ लिया और उन्हें दर्शन दिए

आसा करता हु आप हमारे द्वारा दी जानकारी से थोड़ी बोहोत संतुष्टि मिली होगी अगर हाँ तो आप हमारे फेसबुक पेज से जुड़े और साथ ही नई – नई भक्तो की कहानी

krishna raas leela story in hindi: का लुत्फ़ उठाये और कमेंट में अपनी और कोई जिज्ञासा बताये तब तक मिलते है एक और नए भक्त की कहानी के साथ तब तक राम जी राम!

Leave a Reply

%d bloggers like this: