ईश्वर कौन है kya bhagwan hote hain

ईश्वर कौन है इस बात पर बहुत बार कमेंट होते रहे हैं की भगवान होते हैं या नहीं लेकिन आज इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको यकीन हो जाएगा कि ईश्वर कौन होते हैं और भगवान होते हैं या नहीं क्योंकि आज हमने आपको इस पोस्ट में पूरे सबूत के साथ हैं लाया हूं तो चलिए शुरू करते हैं

ईश्वर कौन है
ईश्वर कौन है

ईश्वर कौन है और कहां है

आजकल लोग पता नहीं किस तरह से प्रत्येक बात पर सवाल उठा देते हैं और तो और भगवान पर भी सवाल उठा दिया कि भगवान वास्तव में है या नहीं उनसे मैं एक बात कहना चाहता हूं कि ईश्वर आपके कहने से और ना कहने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है

क्योंकि भगवान का दर्शन होना कोई छोटी बात नहीं है अज्ञानी से बड़ा अज्ञानी मूर्ख से बड़ा मूर्ख अगर एक छवि ईश्वर की पा जाए तो वह विद्वानों में भी विद्वान हो जाता है

इसलिए आपके यह कहने पर ईश्वर है या नहीं है ईश्वर कहां है हमें दिखा दो तो ईश्वर आपको दर्शन नहीं देंगे वह तो उन लोगों को प्रत्यक्ष दिखाई देते हैं जिनके मन में उनके प्रति सच्ची श्रद्धा है

आज मैं आपको पूरे यकीन के साथ हैं इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको पता चल जाएगा कि वास्तव में भगवान होते है

भगवान के बारे में

आप मुझे एक बात बताइए की किसी व्यक्ति को कोई काम कह देते हैं तो वह उस काम को नहीं करते कोई और काम में लग जाए और हमारे काम को भूल जाए तो हम क्या उससे नाराज होंगे या खुश होंगे

यह बात आप इस प्रकार से समझे की मेरी नौकरी विदेश में लग गई है और मेरी जिम्मेदारी है कि मुझे मेरा परिवार चलाना है और मैं विदेश में जाकर वहीं पर उन्हीं के दिनचर्या के हिसाब से रहकर

उन्ही के खानपान दोस्त और भाई बंधुओं के साथ रहने लगु और अपने देश और अपने माता पिता को भूलजाउ और अपनी पत्नी संतान सभी को एक पल भी याद नहीं करू जबकि मेंरा विदेश जाना इस लिए हुआ क्योंकि मेरे घर परिवार सही से रह सके

kya bhagwan hai in hindi

और उनका पालन पोसन करू बस ये ही बात हम कर रहे है भगवान ने हमे इस संसार में भेजा है क्योंकि हम यहाँ आकर भगवान को प्राप्त करे और अपने जन्म मरण के आवागमन को रोक दे परन्तु हम तो यहाँ पर इतने एसो आराम में खो गए है

की हम भूल ही गए की हम संसार में क्यों आये है केवल यहाँ इश्वर को प्राप्त करने के लिए आये है ना की यहाँ सुख भोगने हम यहाँ आकर ये ही प्रश्न करने लगे है की भगवान है या नहीं

क्या भगवान होते हैं या नहीं
क्या भगवान होते हैं या नहीं

क्या भगवान होते हैं या नहीं?

अब तो आपको पता चल ही गया होगा कि वास्तव में हमारा इस पृथ्वी पर क्या काम है जब हमारा एक ही उदेश्य है कि हमें भगवान को प्राप्त करना है हम उसे छोड़कर और अन्य चीजों में लग जाते हैं और सोचते हैं कि यही सब है सोचो पृथ्वी पर जन्म क्यों हुआ

जन्म हुआ तो हम कमाने औलाद को जन्म देने और घर गृहस्ती को चलाने में लग जाते हैं उसके बाद बुढ़ापा आ जाता है और हमें एक दिन यह सब यही छोड़कर जाना पड़ता है तो इसका क्या कारण है कि हमने कमाया औलाद को जन्म दिया अकेले आए थे

और अकेले ही जा रहे हैं वास्तव में यह हमारा शरीर तो एक साधन है जैसे आपको कहीं जाना होता है तो आप घर में पढ़े हुए कोई भी साधन कार दी का इस्तेमाल करते हैं

kya bhagwan hota hai

और वहां जाकर आते हैं और उसे छोड़ देते हैं इसी तरह हमारा शरीर है हमारे शरीर का एक ही उद्देश्य है कि इससे हमें श्री भगवान को याद करना है क्योंकि मनुष्य शरीर बहुत ही भगवान की कृपा से मिलता है इसमें सोचने समझने करने की ताकत होती है यह सोच सकता है

समझ सकता है कि हमें क्या करना है क्या नहीं करना है गाय को देवी मानते हैं माता मानते हैं पूछते हैं लेकिन हम या कोई और गाय को बांधकर अगर पीटता है तो उस पर उसका कोई बस नहीं चलता है जबकि कहां जाता है गाय के शरीर में रोम रोम में देवता वास करते हैं

लेकिन श्री भगवान ने गाय को भी इतनी ताकत नहीं दी कि वह अपने अच्छे बुरे का ख्याल रख सके लेकिन मनुष्य शरीर में इतनी ताकत है दी है कि वह अपना अच्छा बुरा सोच सकता है

यहां तक कि श्री भगवान को पृथ्वी पर भी उतार सकता है इसलिए भगवान को प्राप्त करना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य है

क्या किसी ने भगवान को देखा है?

अब प्रश्न यह है उठा है कि भगवान को किसी ने देखा है क्या जब एक संत से यही प्रसन्न किया गया जब एक भागवत कथा में किसी ने यह प्रश्न किया कि आपने भगवान को देखा है

क्या तो उन्होंने बहुत ही विनम्रता से जवाब दिया कि मैंने भगवान को देखा है भगवान पृथ्वी के कण-कण में विद्यमान हैं जब हमें जरूरत पड़ती है तो हम आसपास के लोगों और अन्य व्यक्तियों पर ज्यादा भरोसा करते हैं और उन्हें हम पुकारते हैं

आपके सामने एक उदाहरण मैं रखता हूं जैसे द्रोपती की साड़ी जब दुशासन खींच रहा था तो द्रोपती ने सभी को आवाज लगाकर देख ली कोई भी उसकी मदद के लिए नहीं आया लेकिन जब सभी और का आश्रय छोड़कर द्रोपती ने सोचा कि अब और कोई भी मेरी सहायता नहीं कर सकता

bhagwan kya chahta hai

तो उसने श्री कृष्ण भगवान को पुकारा कि मेरी रक्षा करो और वह मुरली वाले एक पल की देर ना लगाई और वहां पर वस्त्र के रूप में ही प्रकट हो गये और द्रोपती का एक अंग भी दुशासन बिना वस्त्र के नहीं कर पाया और एक उदाहरण और भी है

जब गज और ग्राह के बीच में युद्ध चल रहा था मगरमच्छ हाथी को पानी में खींचता जा रहा था इसका जा रहा था और जब गजेंद्र हाथी भी अपना जोर लगा लगा कर थक गया अंत में उसने सोचा कि अब तो मगरमच्छ ऊंचे पानी में सीन ले

जाएगा और उसका मरना ते हैं तो उसने अंत में श्री भगवान का सहारा या आसरा लिया और उन्हें पुकारा कि मेरी रक्षा करो तो भगवान गुरुर से कहने लगे इतनी तेजी से चलो कितनी तेजी से आज तक तुम कभी पहले नहीं उड़े और उस पर भी जरूर और गिरा है कि नजदीक पहुंचने वाला था तो गुड़ के

क्या वाकई में भगवान है?

ऊपर से भी भगवान कूद पड़े गजेंद्र हाथी को हाथ पकड़ कर मगरमच्छ के सहित पानी से बाहर ले आए भगवान से इतनी भी देरी सहन नहीं हुई कि इतनी तेज उड़ने वाला गरुड़ पर से भी उन्होंने छलांग लगा दी ऐसे हैं

श्री भगवान दोनों कहानियों का कहने का मेरा एक ही उद्देश्य है कि आपके अंदर इतनी उत्सुकता इतनी लगन होनी चाहिए

कि आप दूसरों का सहारा छोड़कर केवल और केवल श्री भगवान का सहारा लें तो भगवान आपको जरूर मिलेंगे भगवान होते हैं और हमेशा भी रहेंगे और मनुष्य या यूं कहूं यह जीव जो मनुष्य शरीर में मेरे द्वारा भी बोल रहा है वह भी भगवान का एक अंश है

kya bhagwan

यह भी हमेशा रहेगा इस शरीर से पहले भी था इस शरीर के बाद भी रहेगा और इस शरीर के ना रहने पर भी हमेशा रहने वाला है इसीलिए कहा गया है

कि भगवान के अंश को ना कोई ऐसी अग्नि है जो जला सकती है और ना ही कोई ऐसी हवा है जो सुखा सकती है यह शरीर पंच तत्वों से बना है और वह 1 दिन इसी में विलीन हो जाएगा

भगवान कहाँ रहता है

अब यह प्रश्न उठा है कि भगवान रहते कहां है तो इसका जवाब मैं इस प्रकार से देना चाहूंगा कि भगवान हमेशा अपने भक्तों के हृदय में रहते हैं भगवान ने इतना अधिकार कह दिया है कि भगत मेरे मुकुट की मनी है और मैं भक्तों का दास हूं

भगवान बड़े से बड़े विद्वान भगत को भी मिले हैं और भगवान बड़े से बड़े अज्ञानी भक्तों को भी मिले हैं जैसे हम देखें भगवान बाल्मीकि जी को मिले थे बाल्मीकि जी पहले डाकू थे

और उल्टा राम नाम का जप किया मरा मरा कहा तो राम राम शब्द निकला और इनको इतना ज्ञान हो गया कि भगवान श्री राम के अवतार से पहले ही उन्होंने रामायण की रचना कर दी kya bhagwan

यह अज्ञानी भी रहे हैं और सबसे अधिक विद्वान भी रहे हैं और देखा जाए तो कलयुग में धन्ना जाट जैसे भी हैं

ईश्वर कौन है भगवान को प्राप्त करने के लिए विद्वान होने की जरूरत नहीं बस उन्हें एक मात्र अपने सरल हद से करना होता है यह नाथ हे मेरे नाथ मैं आपको कभी भूल नहीं

Leave a Reply

%d bloggers like this: