कृष्ण जन्म भजन लिरिक्स krishna bhajan with lyrics

कृष्ण जन्म भजन लिरिक्स राम जी राम दोस्तों आज हम श्री कृष्णा भजन आपके लिए लेके आये है जो आपको बहुत शिक्षा देता है की एक भक्त जो अपने भगवान की भक्ति करना चाहता है पर उसका मन उसके बसमे नही होता है आइये जानते है इस भजन को पूरा भजन याद करे और दुसरो को सुनाये!

कृष्ण जन्म भजन लिरिक्स
कृष्ण जन्म भजन लिरिक्स

कृष्ण भजन लिरिक्स

तोसे अरज करूँ साँवरिया, मोसे मन नहिं जीत्यो जाय

मन मेरा यह चंचल भारी, छिन-छिन लेवे राड़ उधारी

तोड़ फेंक दे ज्ञान पिटारी, ना कछु पार बसाय 1

मन मेरा यह चंचल घोड़ा, सत्संगका मानत नहीं कोड़ा

ज्ञान ध्यानका लंगर तोड़ा, पल-पल में हिन हिनाय 2

मन हाथी नहीं काबू मेरे, न्हाय धोय सिर धूल बखेरे

महावत को भी नीचा गेरे, जरा नहीं भय खाय 3

कैसे राखू मन को बस में, मन कर रक्खा मुझको बस में

‘तुलसी’ का मन विषय कुरस में, पल-पलमें ललचाय 4

समाप्त

भजन शंकर जी के इतनी भाँग क्यो पी ली रे

कथा पढे

कृष्ण भजन lyrics

To se arj kru sanvriya mose man nhi jityo jay

man mera yah chanchal bhari, chhin-chhin leve rad udhari

tod fank de gyan pitari na kchhu paar bsay 1

man mera yah chanchal ghoda, stsng mant nhi koda

gyan dhyan ka langar toda, pal-pal me hin hinay 2

man hathi nhi kabu mere, nhay dhoy sir dhul bkhere

mahavat ko bhi nicha gere, jra nhi bhy khay 3

kese rakhun man ko bus me, man kar rakhya mujhko bus me

tulsi ka man vishy kuras me, pal-pal me lalchay 4

The End

ये भी पढ़े

राधा कृष्ण के भजन lyrics

आसा करते है की आपको आज का भजन कृष्ण जन्म भजन लिरिक्स याद हो गई होगी और आपको अच्छा भी लगा होगा तो दोस्तों देखते रहिये हमारी वेबसाइट को और रोज आप यही से याद भी कर सकते है और नये-नये भजन भी सीखिए तो आज इतना ही राम जी राम!

Leave a Reply

%d bloggers like this: