गंगापुत्र की प्रतिज्ञा का फल महाभारत | Ganga putra kise kaha jata ha

ganga putra kise kaha jata ha महाभारत युद्ध महाभारत केवल कौरवों और पांडवो के बिच का युद्ध नहीं है बल्कि सत्य और असत्य के बिच का युद्ध है शक्ति और दुर्बलता के बिच का युद्ध है महाभारत केवल आपसी लड़ाई का परिणाम नहीं है बल्कि लिए गए ग़लत निर्णयों का परिणाम है जिसने बुराई का साथ दिया उस बड़े से बड़े योद्धा का वध हुआ है

महाभारत एक महान युद्ध है जिसमे गीता जैसा ज्ञान भी दिया जाता है और भगवान अपनी प्रतिज्ञा भी तोड़ते है शास्त्र नहीं उठाने की आज में आपको बताने जा रहा हु की महाभारत क्यों हुआ क्या उस युद्ध को टाला नहीं जा सकता था इन सभी सवालों का जवाब आपको आज मिलने वाला है

ganga putra kise kaha jata ha
ganga putra kise kaha jata ha

महाभारत का युद्ध

यह कहानी तब शुरू होती है जब दुष्यंत और शकुंतला के पुत्र चक्रवर्ती सम्राट महाराज भरत अपना राज्य का युवराज घोषित करने वाले थे लेकिन उनकी दुविधा यह थीकि वह अपने पुत्रों में से किसी में भी राजा का गुण नहीं देखते थे

उस समय महाराज भारत का राज्य हिमालय से लेकर कन्याकुमारी तक हो गया था उस समय भारत का काम आर्यभट्ट था राजा भरत का पराक्रम और चक्रवर्ती सम्राट बनने के बाद आर्यभट्ट भारतवर्ष के नाम से जाने जाना लगा इसीलिए कहते हैं

भारत का नाम राजा भरत से पड़ा उन्हें लगता था कि जो भी राजा बनेगावह सही से प्रजा के अधिकारों की रक्षा नहीं कर पाएगा इसलिए महाराज भरत ने अपने किसी भी पुत्र को राजा ना बनाकर उन्होंने भारद्वाज पुत्र अभिमन्यु को राजा का पुत्र घोषित करके युवराज घोषित कर दिया यहीं से ही देखे तो महाभारत की अनकही घोषणा हो चुकी थी

महाभारत का युद्ध
महाभारत का युद्ध

आगे चलकर महाराज शांतनु राजा बने महाराज शांतनु एक बार गंगा के किनारे शिकार खेल रहे थे तभी वहां गंगा प्रकट हुई महाराज शांतनु गंगा पर मोहित हो गए और उन्होंने गंगा से विवाह करने की बात है कहीं तो गंगा ने कहा की मैं एक ही शर्त पर आपसे शादी करूंगी

मैं कुछ भी करूंतो आप मुझे रोकेंगे नहीं जिस दिन आपने मेरे कुछ भी करने पर कोई भी प्रश्न किया या मुझे रोका तो मैं उसी दिन आपको और आपके राज्य को छोड़ कर चली जाऊंगी महाराज शांतनु गंगा पर इतने ज्यादा मोहित हो गए थे

kahani hamare mahabharat ki

कि उन्होंने कुछ भी सोचे समझे बिना गंगा की शर्त मान ली और गंगा महाराज शांतनु की पत्नी बन गईवह दोनों सुख पूर्वक हस्तिनापुर में रहने लगे तभी कुछ समय बाद  गंगा ने एक पुत्र को जन्म दिया और उस पुत्र को जन्म लेते ही नदी  गंगा में डूबा दिया ऐसे कर के गंगा सात पुत्रों को जन्म दिया और सभी को वह गंगा नदी में जन्म देते ही डूबा देती तभी महाराज शांतनु से यह सहन नहीं हुआ

महाभारत का युद्ध कितने दिन चला

और उन्होंने अंत में आठवे पुत्र प्रेम से व्याकुल होकर अपने वचन तोड़ दिया पुत्र को नदी में बहाने से रोक लिया और तभी उन्होंने गंगा से यह सवाल किया कि तुमने मेरे साथ पुत्र 7 पुत्र नदी में बहा दिए तुम कैसी मां हो तभी गंगा ने जवाब दिया

कि ऐसा मेने उनके ही श्राप से मुक्ति के लिए किया क्योंकि आप और मैं हमारे पुत्र 8 पुत्र  सभी श्राप को झेल रहे थे आप पिछले जन्म में राजा भिस्क और में ब्रम्हा पुत्री गंगा और हमारे सारे पुत्र 8 वसु थे

तभी जब आपने मुझे रोका कि मैं अपने ही पुत्रो को क्यों गंगा में बहा रही हु तभी में उस श्राप से मुक्त हो गई हूं और अब मैं आपको यह आठवां पुत्र वापस लोटा दूंगी इसकी शिक्षा पूरी होने के बाद तभी गंगा ने अपने आठवे पुत्र का नाम देवव्रत रखा था जोकि अपनी भीष्म प्रतिज्ञा के कारण भीष्म कहलाये

mahabharat title song

आगे चलकर शांतनु का उनका ह्रदय एक मछुआरे की लड़की पर आ गया जब शांतनु ने उस मछुआरे की कन्या से शादी करने का विचार किया तो उसने भी एक शर्त रख दी की उसका जो भी पुत्र होगा वह राजा बनेगा तो देवव्रत ने जब यह समाचार सुना दो अपने पिता की इच्छा पूर्ति के लिए उसने प्रतिज्ञा ली जिसे भीष्म प्रतिज्ञा के नाम से जाना जाता है देवव्रत ने प्रतिज्ञा ली

महाराज शांतनु ने गंगा पुत्र देवव्रत को युवराज घोषित कर दिया और कि मैं आजन्म ब्रह्मचारी रहूंगा और हस्तिनापुर का रक्षा करूंगा तभी इस बात से महाराज शांतनु दुखी हुए लेकिन उन्होंने भीष्म पितामह को यह आशीर्वाद भी दिया

जब तक तुम चाहोगे तब तक इस धरती पर जीवित रहोगे यानी कि उन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान दे दिया जिस मछुआरे की लड़की से शांतनु महाराज का विवाह हुआ था वह सत्यवती थी सत्यवती के विवाह के उपरांत उन्हें दो पुत्र प्राप्त हुए एक का नाम विचित्रवीर्य दूसरा चित्रांगद था

महाभारत युद्ध की कथा

महाराज शांतनु थोड़े दिन बाद ही स्वर्ग लोग चले गए उसके बाद भीष्म ने चित्रांगद को राजा बनाया कुछ समय राज करने के बाद चित्रांगदा अपने नाम के एक गन्धर्व से युद्ध करते हुए उस से मारे गए उसके बाद विचित्रवीर्य को राजा बनाया जब विचित्रवीर्य के विवाह का समय आया

गंगापुत्र की प्रतिज्ञा का फल महाभारत | Ganga putra kise kaha jata ha

तब काशी प्रदेश में महाराज काशीनरेश अपनी तीनों पुत्रियों अंबा अंबिका अंबालिका का विवाह का स्वयंवर करने का निमन्त्रण काशी से कोई भी समाचार नहीं आया हस्तिनापुर को निमन्त्रण नही करने पर हस्तिनापुर के सभी लोग बड़े उदास हुए लेकिन भीष्म पितामा ने हस्तिनापुर ये अपमान समझा और कशी नरेश की 3 कन्याये हर लाये लेकिन इनमे से अंबिका से विचित्रवीर्य का विवाह नहीं हो सका जबकि अम्बा अम्बालिका से हो गया कुछ समय बाद महाराज विचित्रवीर्य की मृत्यु हो गई मृत्यु होने के बाद गंगापुत्र भीष्म पर फिर से यह बात चली आई kahani hamare mahabharat ki

कि उन्हें शादी कर लेनी चाहिए क्योंकि विचित्रवीर्य के कोई भी संतान नहीं थी तभी माता सत्यवती ने उन्हें एक और रास्ता दिखाया जिससे भीष्म की प्रतिज्ञा भी ना टूटे सत्यवती को महर्षि पराशर से पहले ही एक संतान की प्राप्ति हो चुकी थी जिनका नाम वेदव्यास था इसलिए भीष्म ने वेदव्यास को हस्तिनापुर ले आये और उनकी शादी एक दिन के लिए अंबालिका अंबिका से करा दी वेदव्यास तपस्या से लौटे थे उनके चेहरे पर बड़ी-बड़ी दाढ़ी मूछें थी इसलिए उन्हें देख कर अंबिका ने आंखें बंद कर ली इसलिए उन्हें अंधे पुत्र की प्राप्ति हुई

महाभारत का युद्ध कितने दिन चला
महाभारत का युद्ध कितने दिन चला

और अंबालिका उन्हें देखकर डर गई इसलिए उनका पुत्र स्वास्थ्य ठीक नहीं था सत्यवती ने जब यह सुना की दोनों बच्चो में कमी होगी तो उन्होंने अम्बा अम्बिका को दुबारा वेदव्यास से परिणय के लिए कहा इस बार उन दोनों राजकुमारियों ने अपनी दासी उनके पास भेज दी जोकि ना ही डरी न ही आँखे बंद की इस लिए उन्हें विदुर जैसे महान पुत्र की प्राप्ति हुई

mahabharat in hindi

ध्रतराष्ट्र की सादी घनदार नरेश की पुत्री गांधारी से हुई और पाण्डु की सादी कुन्ती और राजकुमारी माधवी से हुई पाण्डु को राजा बनाया गया क्योंकि ध्रतराष्ट्र के आँखे नहीं थी पाण्डु जब शिकार खेल रहे थे तो उन्होंने एक शब्द भेदी बाण चलाया जिससे एक रिसी और उनकी पत्नी मारे गए तो ऋषि ने श्राप दिया की जब भी तुम अपनी पत्नी से प्रेम करेंगे तो उसी क्षण तुम्हारी मृत्यु हो जाएगी तो पाण्डु ने सन्यास लेने का फैसला किया

mahabharat in hindi
mahabharat in hindi

और जब पाण्डु वनवास को गए तो उन्होंने अपना मुकुट महाराज घृतरास्ट्र को देते गए और अंत मे कुंती को वरदान था की जब भी वे चाहेंगी तो उन्हें कोई भी देवता को अपने सामने प्रकट कर पाएंगी

ganga putra kise kaha jata ha और कुंती को वो देवता वरदान देगा महाभारत युद्ध तो कुंती ने इसी वरदान का उपयोग करके पाण्डु के पांच पुत्र प्राप्त किये जिनमे कुंती के तीन और दो माधवी के कौन्तेय थे युधिस्टर , भीम , अर्जुन माधवी के थे नकुल और सहदेव वही गांधारी ने एक पिंड को जन्म दिया जिस से एक सो पुत्र जन्म हुआ जिन्हे कौरव कहा गया और महाराज पाण्डु के पुत्रो को पांडव कहा गया आगे की महाभारत की कथा को आपको पता है ही अगर आप चाहते है की में आपको बाकि की कथा और सुनाऊ तो आप कमेंट करे राम जी राम

Leave a Reply

%d bloggers like this: