धर्म क्या है | dharm kya hai

धर्म क्या है धर्म कितने प्रकार के होते हैं धर्म का शाब्दिक अर्थ है क्या है इसके प्रश्नों का जवाब हम देंगे इस से लेकर विस्तार से इसलिए आपन तक बने रहे(dharm kya hai)
धर्म का शाब्दिक अर्थ है

धारण करने के योग्य अब आपके मन में प्रश्न आते हो कि हम क्या धारण करें किस चीज को दान करें तो हम बताते हैं कि हिंदू धर्म के अंदर महाभारत प्रसिद्ध ग्रंथ के अंदर कहा गया है कि कर्म करते रहो

दया सत्य उदारता है दान विद्या यह धर्म है जिसका अर्थ है धारण करने के योग्य सत्य आप सत्य बोलते हो सत्य धारण करने के योग्य उदारता ध्यान करने के योग्य विद्या धारण करने के योग्य कर्म में लगे

रहना कर्म करते रहना हर समय धारण करने के योग्य फल की इच्छा मत करना क्योंकि जैसा आप कर्म करोगे वैसे ही आपको फल प्राप्त होगा
इन शब्दों के अलावा अगर आप धारण करते हो

धर्म क्या है | dharm kya hai
dharm kya hai

जैसे असत्य असत्य से कुर्ता ए विद्या विद्या हिना अज्ञानी आदि का विकास विकास होता है समाज के अंदर हिस्सा बढ़ जाती है

वह बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है इसलिए इन शब्दों के अलावा धारण करने वालों को धर्म के अंदर स्थान है दिया जाता है इन लोगों की की बुद्धि से समाज भयभीत होता है

आपके मन में प्रश्न उठता होगा कि धर्म चार है हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई दरअसल आपको जानकारी के लिए बता दिया यह धर्म नहीं है यह संप्रदाय है

संप्रदाय परंपराओं द्वारा अनुयायियों द्वारा दिए गए नियम पर चलता है
धर्म के प्रकार
धर्म दो प्रकार के होते हैं धर्म का अर्थ है दान करने के योग्य हमारे पास धारण करने के योग्य दो ही चीज है

एक आत्मा और शरीर आत्मा है हमें आत्मा को शरीर चाहिए कर्म करने के लिए मन ही बंधन है इसे ही मोक्ष प्राप्त करने का प्राप्त होता है इसीलिए धर्म धारण मन से किया जा सकता है

मनुष्य ही कर्म किया जाता है
धर्म धारण करने के योग्य है इस पर हम बात की है अब आत्मा को धर्म में क्या धारण करना चाहिए आत्मा क्या धारण करने के योग्य आत्मा परमात्मा को धारण करने के लिए उठ योग्य है धर्म आत्मा का धर्म बनता है

कि वह परमात्मा को धारण आत्मा परमात्मा का धारण करेंगी तभी उसे मोक्ष की प्राप्ति होगी जीवन सफल होगा|
आशा करता हूं

आपको उस धर्म के बारे में अच्छी तरह जानकारी प्राप्त हो गई है इस टॉपिक पर हम विदा लेते हैं मिलते हैं अगले टॉपिक पर

Leave a Reply

%d bloggers like this: