Bhishma vs parshuram | भीष्म और परशुराम युद्ध

bhishma vs parshuram ये बात उस समय की है जब कशी में राजकुमारी अम्बा , अम्बालिका और अम्बिका का शवयंबर हो रहा था और कशी के नरेश ने हस्तिनापुर को आने का निमंत्रण नहीं दिया वैसे भी कशी और हस्तिनापुर के पौराणिक सम्बन्ध चलते आये थे

जब भीष्म को ये बात पता चली तो भीष्म ने इसको अपना अपमान समझा और कशी से बलपूर्वक तीनो राजकुमारिओ का हरण कर लाये और जब शादी के लिए विचित्रवीर्य को बुलाया तो राजकुमारी अम्बा ने कहा की वह पहले से किसी और से प्रेम करती है

bhishma vs parshuram
bhishma vs parshuram

भीष्म और अम्बा

ये बात मानते हुए भीष्म ने कुमारी अम्बा को आजाद कर दिया और सेनिको से कहा की ये जहा भी जाना चाहे इन्हे सह इज्जत पहुंचा दो तभी अम्बा सेनिको के साथ चली गयी

लेकिन फिर पता चला की अम्बा के प्रेमी ने उसे ये कहकर अस्वीकार कर दिया की अपरहण की हुई नारी उसे नहीं चाहिए फिर अम्बा वापिस भीष्म के पास आई और भीष्म से शादी करने के लिए निमंत्रण दिया

bhishma and amba story in hindi

किन्तु भीष्म ने अपनी प्रतिज्ञा का हवाला देकर अम्बा को ठुकरा दिया किन्तु उसके बाद अम्बा अपना प्रतिशोध लेने के लिए भगवान परशुराम के पास गई और परसुराम ने एक नारी के लिए भीष्म को युद्ध के लिए ललकारा

bhishma vs parshuram उसके बाद भीष्म और परसुराम में भीषण युद्ध शुरू हो गया कुछ समय के बाद जब युद्ध का कोई परिणाम नहीं निकला तो वहा महादेव प्रकट हुए और अम्बा को ये वरदान देकर युद्ध रोक दिया की तुम भीष्म की मृत्यु का कारण बनोगी उसके बाद की कथा पढ़े अम्बा कैसे बनी शिखंडी जय श्री राम

Leave a Reply

%d bloggers like this: