रानी रत्नावती | Bhangarh Fort Story 1 In Hindi

रानी रत्नावती: क्या आप इस बात को भली भांति मानते है की भानगढ़ का किला एक प्रसिद्ध किलो में से एक है इस किले का इतिहास और किलो के जैसा नहीं है

की इस किले पर इतने शासको ने राज किया या हनुमानगढ़ के किले के जैसे की इस किले पर सबसे ज्यादा हमले हुए है और इस लोहगढ़ कहते है

भानगढ़ का किले का इतिहास अपने आप में चौकाने वाला है कहते है इसका इतिहास हर रात ये किला बताता है क्योंकि इस किले को सबसे डरावना किला माना जाता है

रानी रत्नावती और भानगढ़

राजस्थान सरकार ने बड़े बड़े अक्सरो में बोर्ड लगाके चेतावनी लिखी हुई है की भानगढ़ का किले में रात में रहने पर पतिबन्ध है ये किला जितना ही मजबूत है उतना ही असुरक्षित भी है

रानी रत्नावती
रानी रत्नावती

पहली कहानी के अनुसार रानी रत्नावती भानगढ़ की राजकुमारी थी जो बहुत ही सूंदर थी वे इतनी खूबसूरत थी की इनके चर्चा अन्य राजा महाराजा में हुआ करती थी और अनेक राजकुमार रानी रत्नावती से विवाह की इच्छा रखते थे

भानगढ़ का किला

एक बार जब राजकुमारी रानी रत्नावती बाजार में गई हुई थी तो एक तांत्रिक की नजर राजकुमारी पर पड़ी वह राजकुमारी को अपने वश में करना चाहता था जब राजकुमारी एक इतर की दुकान पर गई तो उसने वहा जाकर के उस इतर की बोतल पर जादू किया जो राजकुमारी ने खरीदा था

उस तांत्रिक का यह जादू था की जो भी इस इतर को अपने ऊपर छिड़केगा वह उस तांत्रिक के खुद ही वश में हो जायगेगा जब राजकुमारी उस इतर को लेके जा रही थी

Bhangarh Fort Story In Hindi

तो गलती से वह इतर की बोतल एक पत्थर पर गिर कर टूट गई और इत्र गिरने से वो पत्थर उस तांत्रिक के वश में हो गया

रानी रत्नावती

इतर गिरते ही वो पत्थर तांत्रिक की और दौड़ा और तांत्रिक ने सोच वो रत्नावती है उसने बिना देखे कहा आओ मेरी छाती पर बैठो तभी वो पत्थर से तांत्रिक कुचला गया और उसने मरते – मरते ये श्राप दिया की राजकुमारी रत्नावती के साथ भानगढ़ तबाह हो जायेगा

रानी रत्नावती: कहते है इस बात को थोड़ा ही समय बिता उसके बाद भानगढ़ पर किसी दूसरे राजा ने हमला कीया और भानगढ़ के 10 हजार लोग मारे गए साथ ही रत्नावती भी मारी गई इस नरशाहार के कारण आज भी यहाँ चीखे सुनाई देती है

Leave a Reply

%d bloggers like this: