भगत हरिमेधा और सुमेधा की कथा

आज की कथा बहुत ही प्यारी है जिसमे हम बतायेंगे की भगत हरिमेधा और सुमेधा को भगवान ने किस प्रकार से दर्शन दिए और भगत हरिमेधा और सुमेधा ने केसे ब्रम राक्षस को मुक्ति दिलाई

भगत हरिमेधा और सुमेधा ने केसे की ब्रम राक्षस की मुक्ति

पुराने समय की बात है कश्मीर देश में सुमेधा और हरिमेधा नाम के दो ब्राह्मण रहते थे जो सदा से ही भगवान विष्णु के भजन में लगे रहते थे

भगवान मेंके वे परम भक्त थे उनके हृदय में सभी प्राणियों के प्रति दया भरी हुई थी

एक समय वे दोनों ब्राह्मण एक ही साथ तीर्थ यात्रा के लिए निकले चलते चलते वह किसी दुर्गम स्थान में पहुंचकर बहुत ही थक गए

वहीं एक स्थान पर उन्होंने तुलसी का पौधा देखा उनमें सुमेधा ने उस तुलसी के पौधे की परिक्रमा की और भक्ति पूर्वक प्रणाम किया यह देखकर हरि मेधा ने भी वैसा ही किया और सुमेधा से पूछा की भाई तुलसी का क्या महत्व है

सुमेधा ने कहा महाभाग्य चलो उस बरगद के पेड़ के नीचे चलते हैं वहां मैं तुम्हें सारी कहानी सुनाऊंगा यह कहकर सुमेधा बरगद की छाया में जा बैठे और हरिमेधा से बोले भाई पुराने समय में जब समुद्र का मंथन किया गया था

भगत हरिमेधा और सुमेधा
भगत हरिमेधा और सुमेधा

उस समय उससे अनेक प्रकार के दिव्य रतन प्रकट हुए थे अंत में भगवान विष्णु अपने हाथ में अमृत का कलश लेकर प्रकट हुए उस समय उनके नेत्रों से आंसुओं की धारा अमृत के ऊपर गिरी और तुलसी उत्पन्न हुई इस प्रकार समुंदर से प्रकट हुई

लक्ष्मी तथा अमृत से उत्पन्न हुई तुलसी को सब देवताओं ने हरि की सेवा में समर्पित कर दिया और भगवान ने उन्हें प्रसन्नता पूर्वक ग्रहण किया तब से संपूर्ण देवता तुलसी की विष्णु भगवान के समान ही पूजा करते हैं

भगवान नारायण संसार के रक्षक है और तुलसी उनकी प्रियतमा है इसलिए मैंने उन्हें प्रणाम किया सुमेधा इस प्रकार तुलसी की महिमा बता ही रहे थे कि सूर्य के समान एक दिव्य विमान उनके निकट आज़ता हुआ दिखाई दिया

इस समय बरगद का पेड़ भी उखड़ कर गिर गया उससे दो दिव्य पुरुष निकले जो अपने तेज से संपूर्ण दिशाओं को प्रकाशित कर रहे थे

ये भी पढ़े

उन दोनों ने सुमेधा और हरी मेधा को प्रणाम किया और अपना परिचय देते हुए कहा कि हम दोनों देवता है और अपने पूर्व पाप के कारण राक्षस होकर इस वट वृक्ष पर निवास करते हैं

आज आप के मुख से यह भगवान के विषय की चर्चा सुनकर तथा आप दोनों महात्माओंका संग पाकर हम दोनों इस पाप योनि से मुक्त हो गए हैं और हम अपने दिव्य धाम को जा रहे हैं

इस प्रकार वे हरिमेधा और सुमेधा को प्रणाम करके उनकी आज्ञा से विमान के द्वारा दिव्यलोक को चले गए वास्तव में भगवान के भक्तों के संघका ऐसा ही महत्व है

आज की कथा के बारे में आपका मत

आज की कथा भगत हरिमेधा और सुमेधा में आपने क्या शिक्षा पाई आप हमे कमेन्ट करना ना भूले की आपको हमारे द्वारा बताई गई कथा केसी लगी और साथ ही इस कथा को दुसरो को शेयर करना ना भूले राम जी राम !

Leave a Reply

%d bloggers like this: