विष्णु के दस अवतार 10 avatar of vishnu

विष्णु के दस अवतार इतने प्रसिद्ध है की सभी प्रतेक अवतार के बारे में जानना चाहते है आज में आपको बताऊंगा की कोनसा अवतार कब हुआ

और क्या करण थे की भगवान विष्णु को वह अवतार लेना पड़ा वेसे तो भगवान के इस धरती पर आने का इक ही करण रहा है मानव कल्याण प्रतेक अवतार का एक ही उदेश्य रहा है

फिर भी आइये जानते है की भगवान ने कोनसा अवतार कब लिया आपको ये कथा अच्छी लगे तो में आपके लिए भगवान शंकर के सारे अवतार की की कथा भी बताऊंगा अगर आप कमेन्ट करेंगे तो चलिए शुरू करते है

विष्णु के दस अवतार
विष्णु के दस अवतार

विष्णु के दस अवतार दशावतार लिस्ट

  • मत्स्य अवतार
  • कूर्म अवतार
  • वराह अवतार
  • नरसिंह अवतार
  • वामन अवतार
  • परशुराम अवतार
  • राम अवतार
  • कृष्ण अवतार
  • बुद्ध अवतार
  • कल्कि अवतार

भगवान विष्णु के कितने अवतार है

पहला अवतार मत्यस्य अवतार माना जाता है इस अवतार का उदेश्य श्री भगवान का था की पूरी श्रष्टि को पुन सर्जित करना था

matsya avatar in hindi

जिसमे इन्होने राजा मनु को ये आदेश दिया की तुम्हे ये पृथ्वी जब जल में समा जाएगी तो तुम्हे एक नौका पर सभी सामग्री के बीज लेकर और सभी जानवरो पक्षियों का एक एक जोड़ा लेकर नौका पर बैठना है

तभी में तुम्हारी जल की प्रलय से रक्षा करूंगा और इसी तरह से भगवान ने मत्स्य अवतार लिया था

ये भी पढ़े !

भगवान विष्णु के कूर्म अवतार

दूसरा अवतार कछुए का अवतार इस अवतार में भगवान विष्णु ने सागर मंथन के समय अपना सहयोग किया था जब राक्षस और देवताओं के बीच सागर मंथन हुआ था पर्वत पृथ्वी के आर पार होने लगा क्योंकि वह सागर को मधानी की तरह से मथ रहे थे

kachhap avatar ki katha

जब पर्वत पृथ्वी के पार जाने लगा पाताल लोक में तब भगवान विष्णु ने कछुए का अवतार लेकर उस पर्वत को अपने पीठ पर रख लिया उस पर्वत की रगड़क से भगवान ने कहा कि मेरी पीठ में खुजली हो रही थी वह शांत हो गई

वराह अवतार की कथा

तीसरा अवतार श्री भगवान ने सूअर के मुख्य का अवतार लिया था उस समय पृथ्वी पर दो राक्षस बड़े ही बलशाली थे

एक हिरण्याक्ष और दूसरा हिरण्यकशिपु जब हिरण्याक्ष पृथ्वी को लेकर जल में चला गया तब भगवान ने सृष्टि को बचाने के लिए वराह अवतार लिया जिसमें भगवान विष्णु का शरीर आधा सूअर का और नीचे की धड़ मनुष्य की थी इस अवतार में भगवान ने वशुन्धरा यानि प्रथ्वी की रक्षा की

इसे वराह अवतार में भगवान ने हिरण्याक्ष को अपने सींगों से फाड़ कर मार डाला था

चौथा अवतार भगवान ने हिरण्यकशिपु नाम के राक्षस को मारने के लिए लिया था इस अवतार में श्री भगवान ने अपने भक्त प्रल्हाद की रक्षा के लिए क्रोध में आकर नरसिंह अवतार लिया था

जब प्रहलाद के पिता हिरण्यकशिपु ने कहा था कि कहां है तेरा भगवान तब प्रह्लाद ने कहा था कि मेरा भगवान हर जगह हैं तो हिरण्यकशिपु ने कहा कि क्या वह इस में भी खंबे में भी तुम्हारा भगवान है तो हिरण्यकशिपु के इतना कहते ही प्रह्लाद ने कहा कि हां मेरा भगवान इस खंभे में भी है

तब हिरण्यकशिपु ने खम्बे पर गदा से प्रहार किया तो अंदर से भगवान ने अवतार ले लिया जिसमें इनका मुंह है तो सिंह का था और बाकी धड़ मनुष्य की थी और भगवान ने प्रहलाद के पिता हिरण्यकशिपु को मार डाला

vaman avatar in hindi

5 अवतार वामन अवतार भगवान विष्णु ने यह अवतार उस समय लिया जब गुरु शुक्राचार्य प्रहलाद के पोत्र राजा बलि के द्वारा राक्षसों और देवताओं में युद्ध कराना चाहते थे

जबकि राजा बलि भगवान के भक्त थे तब भगवान ने राजा बलि के राज्य में एक याचक की भांति आए और उन्हें तीन पग धरती देने के लिए निवेदन किया तो राजा बलि ने यह निवेदन स्वीकार किया तो भगवान विष्णु ने वामन अवतार के रूप में एक पग से पूरी पृथ्वी को नाप दिया

वामन अवतार की कथा

और दूसरे पग से आकाश और स्वर्ग लोक के सारे लोक नाप दिए और जब तीसरा पग रखने के लिए जगह नहीं मिली तो राजा बलि ने अपनी प्रतिज्ञा पूर्ण करने के लिए वह तीसरा पग अपने सर पर रखवा लिया जिससे भगवान ने अपने चरण के दाब से राजा बलि को पताल लोक में भेज दिया और पताल लोक का राजा महाराज बली को बना दिया

10 avatar of vishnu

6 अवतार भगवान ने परशुराम के रूप में लिया था जब सहस्त्रबाहु नाम का राक्षस जो कि एक छत्रिय था लेकिन कर्मों से राक्षस की भांति निर्दई था वह ब्राह्मणों और बहुत सारे दीन दुखियों पर भगवान के भक्तों पर अत्याचार करता था वह इतना बलशाली था

कि उस ने रावण को भी बंदी बना लिया था और देवताओं से उसकी दुश्मनी थी भगवान के नाम से वह दूर रहता था तो भगवान ने ब्राह्मण के रूप में परशुराम अवतार ग्रहण किया इस अवतार में भगवान बहुत ही क्रोधी स्वभाव के हैं

जब सहस्त्रबाहु ने परशुराम के पिता को मार डाला तो परशुराम की प्रतिज्ञा ने आवेश में आकर प्रतिज्ञा ली की नहीं इस पृथ्वी को 21 बार क्षत्रियों से हिन कर दूंगा यानी कि भगवान परशुराम ने 21 बार क्षत्रिय राजा थे उनको मिटा डाला था इस अवतार में परशुराम के गुरु भगवान महादेव थे

और इसी अवतार में परशुराम ने भगवान महादेव के द्वारा दिया हुआ धनुष को राजा जनक को दिया था और इसी अवतार में उस धनुष के टूटने से राम जी के भाई लक्ष्मण और परशुराम में विवाद हुआ था

भगवान राम विष्णु के कौन से अवतार थे

भगवान का सातवां अवतार इतना निर्मल और स्वच्छ और मर्यादा की मूरत है कि आप सब लोग जानते हैं ही भगवान श्री राम भगवान श्री राम के नाम से ही लोग भवसागर से तर जाते हैं अगर मनुष्य अंतिम क्षणों में भी पूरी जिंदगी भर पाप किया हो

और अपने अंतिम क्षणों में उसके मुंह से राम का नाम निकल जाए तो उस मनुष्य की मुक्ति तुरंत हो जाती है इतना भगवान के नाम में पावर है यह तो आपको पता ही होगा कि भगवान ने यह अवतार अयोध्या में लिया था

राजा दशरथ के पुत्र भगवान श्री राम भगवान ने यह अवतार राक्षसों को पृथ्वी का भार उतारने के लिये यह अवतार ग्रहण किया था इस अवतार में भगवान ने रावणआदी राक्षसों को मारा था और संसार को यह शिक्षा दी थी कि अपने माता पिता कि किस तरह से पूजा की जाती है

सेवा की जाती है आज्ञा पालन किया जाता है बिना किसी सवाल के यह अवतार भगवान का मर्यादा की नींव रखी थी इसलिए इसे मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के नाम से जाना जाता है बोलिए श्री राम भगवान की जय कमेंट में जय श्री राम जरूर कहें

श्री कृष्ण विष्णु के कौन से अवतार थे

भगवान का आठवां अवतार तो बहुत ही चर्चित है यह अवतार तो विदेशों में भी लोग जानते हैं श्री कृष्ण जहां रामअवतार सीधा-साधा सरल और मर्यादा की छवि थी वही यह अवतार श्री कृष्ण के रूप में भगवान का चंचल नटखट और बहुत से नाम दिए जाते हैं

भगवान को माखन चोर भी कहा जाता है क्योंकि भगवान गोपियों के घर से माखन को चुराकर खा जाते थे इसलिए भगवान को माखन चोर भी कहा जाता है भगवान ने इस अवतार में गायों की सेवा की है इसलिए उन्हें गोपाल भी कहा जाता है

भगवान श्री कृष्ण के अनेक नाम है इस अवतार में भगवान ने बहुत सारे राक्षसों को मारा था और पृथ्वी को उनके भार से छुटकारा दिलाया था भगवान ने अपनी माता देवकी की रक्षा की ओर कंस को मार डाला था इस अवतार में भगवान ने बड़े-बड़े कार्य किए थे

जैसे कंस को मारना जरासंध को भीम के द्वारा मरवाना और महाभारत युद्ध करवाके सभी कोर्वो जनों का अंत करवाना और गीता का उपदेश भी इसी अवतार में भगवान ने दिया था महाभागवत की रचना भी इसी अवतार में मानी जाती है

अटूट प्रेम की शिक्षा और प्रेम का अर्थ भी इसी अवतार में भगवान ने दिया था जहां भगवान को आज भी राधा कृष्ण के नाम से जाना जाता है भगवान का श्रीकृष्ण अवतार पूर्ण कलाओं का अवतार माना जाता है बोलिए श्री कृष्ण भगवान की जय भगवान विष्णु का 52 अवतार

नवां अवतार माना जाता है भगवान बुद्ध को जिन्होंने यह अवतार कलयुग में ग्रहण किया था जिसमें भगवान ने पूर्ण रूप से एक संत की महिमा को निभाया है

इस अवतार में भगवान ने सन्यास आश्रम और गृहस्थ आश्रम के सभी नियमों का भली-भांति किस तरह से रहना चाहिए यह बताया है भगवान का यह अवतार स्वच्छ और शांत अवतार है इस अवतार में भगवान सरल रूप में ज्ञान की शिक्षा देते हैं

kalki avatar in hindi

दशावतार मैं यह अवतार अंतिम अवतार है जिसमें विष्णु भगवान कलंकी अवतार ग्रहण करेंगे यह अवतार अभी तक नहीं हुआ है लेकिन यह बताएं कलयुग में होगा जो भगवान पृथ्वी का भार दूर करने के लिए कलंकी अवतार लेंगे

kalki avatar of vishnu

और घोड़े पर चढ़कर अपनी तलवार से सभी राक्षसों का वध करेंगे यह अवतार बहुत ही महान और अंतिम अवतार माना जाता है वैसे तो भगवान के सारे अवतार की महिमा कहीं नहीं जा सकती क्योंकि भगवान के सभी अवतार महान है एक से बढ़कर एक हैं उनमें अगर कोई अलग-अलग मानता है किसी एक को बड़ा मानता है

ये भी पढ़े !

किसी को छोटा मानता है तो यह उनकी मूर्खता है क्योंकि भगवान ने सभी अवतारों में अलग-अलग लीला की है जहां राम अवतार में भगवान अपने हाथ से शिव का धनुष तोड़ते हैं वही परशुराम बन कर सामने आकर विवाद करने लगते हैं

भगवान विष्णु का अंतिम अवतार

लेकिन दोनों को पता है की कौन क्या है भगवान का अवतार भगवान की लीला मनुष्य समझ नहीं सकता कल्कि अवतार आगे होने वाला है इसके बारे में इतना ही हम कह सकते हैं

जो कि हमने शास्त्रों से पढ़ा है कि यह एक ब्राह्मण के घर में होगा कब होगा यह तो पता नहीं लेकिन भगवान का यह अंतिम अवतार जरूर होगा बोलिए भगवान विष्णु की जय विष्णु के 24 अवतार

पोस्ट के बारे में

आज हमने आपको विष्णु के दस अवतार के बारे में बताया है अगर आपको भगवान शंकर के अवतार के बारे में भी जानना है तो आप हमे एक बार कमेन्ट जरुर करे आगे मिलते है ऐसे ही श्री भगवान से जुड़े हुए किसी अन्य तथ्य पर तब तक जय श्री राम!

Leave a Reply

%d bloggers like this: